#धर्म-अध्यात्म

Padmini Ekadashi: बहुत ही खास है सावन के मलमास की पद्मिनी एकादशी , इन नियमों के पालन करने से होगा लाभ

Padmini Ekadashi of Sawan Malmas is lord vishnu

Padmini Ekadashi Ke Niyam: तीन साल में एक बार आने वाली Padmini Ekadashi  का सावन मलमास  में काफी विशेष महत्व माना जाता है।दरअसल, मलमास  और एकादशी का व्रत दोनों ही श्री हरि  विष्णु भगवान  को समर्पित हैं । ऐसे में इस दिन किए जाने वाले  पूजा

और पाठ  व्रत का  फल भी उत्तम  मिलता है। बोला  जाता है कि Padmini Ekadashi का व्रत रखने पर  सालभर की एकादशी का पुण्य एक साथ ही मिल जाता है। साथ साथ  ही इस दिन कुछ नियमों के बारे में  भी बताया गया है, जिसका पालन करने से हर व्यक्ति की जो व्रत करता हे उसकी  सारे मनोरथ  हो जायेंगे |

 

Padmini Ekadashi पर इन नियमों का करें पालन

पद्मिनी एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर पानी में थोड़ा गंगाजल मिलाकर स्नान करें। इससके बाद श्री भगवान विष्णु  की पूजा करें। पूजा में पीले रंग के फूल, धूप, दीप, अक्षत, चंदन और दूर्वा भगवान को अर्पित करें।

साथ ही इस दिन पद्मिनी एकादशी की कथा पढ़ें और विष्णु चालीसा का पाठ करें ।

इसके अलावा पद्मिनी एकादशी के दिन नहाने के पानी में तिल, कुश और आंवले का थोड़ा चूर्ण मिलाकर नहाएं।

नहा धोकर साफ कपड़ने पहनकर घर के मंदिर में जाएं और भगवान विष्णु की विधिवत पूजा करें।

पूजा में विष्णु जी के  मंत्रो  को पढ़े  करके उनकी कथा जरूर सुनें।

कहा जाता हे की मलमास में पड़ने वाली इस एकादशी से बढ़कर कुछ यज्ञ नहीं हे।

यह भी पढ़े :

 Malmas Month 2023: मलमास के दौरान 5 उपाय करने से दूर होंगे सारे विकार बनी रहेंगी श्री हरि की कृपा.

1 Comment

Comments are closed.